केटीएम बाइक किस कंपनी की है? KTM के सफलता की कहानी.

केटीएम बाइक किस कंपनी की है? आप में से ज्यादातर लोगों ने केटीएम बाइक के बारे में तो जरूर सुना ही होगा, और उन से बहुत सारे ऐसे भी होंगे जिनके पास केटीएम के बाइक है, और वो लोग इस बाइक को चला कर मजा भी लेते होंगे,

केटीएम बाइक किस कंपनी की है?
केटीएम बाइक किस कंपनी की है?

लेकिन दोस्तों क्या आपको यह पता है यह केटीएम बाइक किस कंपनी के हैं? केटीएम कंपनी का मालिक कौन है? केटीएम किस देश की कंपनी है? 

केटीएम बाइक किस कंपनी की है?

आपने जबरदस्त स्पीड और शानदार looks की वजह से दुनियाभर में फेमस केटीएम बाइक हमारे इंडिया में lunch होने के बाद से हमारी युवा के दिल की धड़कन बन चुकी है, यह एक ऐसी बाइक है जो हर जुबा की पसंद है।

ऐसा नहीं है कि यह बाइक सिर्फ आमिर लोगों की पांच में है, केटीएम की बाइक हमारे इंडिया में ₹200000 से शुरू हो जाती हैं, इसी वजह से कोई भी बाइक कार चाहे तो इस बाइक को आराम से खरीद सकते हैं।

ऐसे तो केटीएम ने कुछ साल पहले ही हमारे इंडियन मार्केट में कदम रखी थी, लेकिन थोड़े समय में ही यह बाइक इंडिया मार्केट में बहुत ही पॉपुलर होने लगी।

केटीएम बाइक किस कंपनी की है?

KTM एक ऑस्ट्रेलिया की मोटरसाइकिल और स्पोर्ट्स कार बनाने की कंपनी है, जोकि KTM industry AG, and Bajaj auto के जरिए अपरेक्ट की जाती है, 

KTM industry AG के स्थापना 1992 में हुई थी, लेकिन इस कंपनी के असल शुरुआत 1934 मैं हो गई थी, आज के समय में KTM AG जो है यह KTM Group की एक parent company है, 

केटीएम बाइक के इस पूरे सफर को अच्छे से जानने के लिए इस कहानी तो हम शुरू से जानते हैं, इसे पढ़ने के बाद आपको केटीएम से जुड़ी आपको सभी सवालों का जवाब मिल जाएगा।

इस कहानी के शुरुआत होती है साल 1934 से, जब ऑस्ट्रेलिया के एक इंजीनियर Johann Trunkenpolz एक गाड़ी ठीक करने वाली Car Repair की दुकान की शुरुआत करें। 

और फिर अगले 2 सालों में उन्होंने DKW के मोटरसाइकिल और OPEL कंपनी की गाड़ी बेचनी भी शुरू कर दी, उस समय उस दुकान का नाम Kraftfahrzeuge Trunkenpolz Mattighofen हुआ करता था,  जिसको हम शॉर्ट में KTM बोलते हैं। 

लेकिन आगे चलकर world war शुरू हो गई और Johann Trunkenpolz सेना में शामिल हो गया, और उस समय घर के खर्चे को चलाने के लिए उसके पत्नी ने हीं पूरे बिजनेस को संभाला,

लेकिन जब world war खत्म हो गई तब रिपेयरिंग की काम नहीं चल पाई, इसी समय Trunkenpolz ने अपने मोटरसाइकिल बनाने का फैसला किया, और उनकी बाइक R100 का प्रोटोटाइप 1951 मैं बनाया गया था। 

इस मोटरसाइकिल में Rotax कंपनी का Engine इस्तेमाल किया गया था, और इसके अलावा मोटरसाइकिल के ज्यादातर parts दुकान में ही बनाया गया था, 2 साल तक इस बाइक का सभी जांच करने के बाद 1953 में इस बाइक की प्रोडक्शन शुरू हो गई।

उस वक्त इस कंपनी में सिर्फ 20 लोग ही काम करते थे, लेकिन एक दिलचस्प बात यह थी कि यह कंपनी सिर्फ 20 लोगों के साथ ही 1 दिन में 3 बाइक बाना लिया करती थी, हालांकि इस कंपनी का तब तक Register नहीं किया गया था। 

लेकिन 1953 में Ernst Kronreif नाम के एक बिजनेसमैन ने इस कंपनी पर इन्वेस्ट किया, और उसके बाद Kronreif & Trunkenpolz Mattighofen के नाम से इस कंपनी को रजिस्टर किया गया। 

उसके बाद कंपनी ने KTM R125 Tourist के नाम पर एक बाइक launch किया, और फिर KTM Grand Tourist और एक scooter को मार्केट में निकाला।

1954 मी KTM के बाइक नहीं जब Australian 125 National championship 🏆  जिता तब यह बाइक बनाने वाली कंपनी धीरे-धीरे लोगों के बीच में बहुत ही पॉपुलर होता गया। 

1957 मे KTM एम के सबसे पहली Superbike आई KTM 125 TROPHY के नाम पर, और 60 के दशक के दौरान कंपनी ने साइकिल बनाना भी शुरू कर दिया था। 

लेकिन केटीएम का सबसे बुरा दर तब शुरू हो गया जब कंपनी के एक सबसे बड़े इन्वेस्टर Ernst Kronreif की मृत्यु हो गई, और उसके 2 साल के बाद ही इस कंपनी की founder Johann Trunkenpolz ने हार्ट अटैक की वजह से इस दुनिया को अलविदा कह दिया, यह समय कंपनी के लिए बहुत ही बुरा साबित हो रहा था।

अपने पिता के मौत के बाद Erich Trunkenpolz ने इस कंपनी को संभालने की जिम्मेदारी आपने ऊपर लिया, और उन्होंने कंपनी को एक नई सोच के साथ ऊपर उठाया।

Erich Trunkenpolz के समय इस कंपनी ने काफी विकास किया, और 1971 में इस कंपनी में काम करने के लोगों की संख्या 400 से भी ज्यादा होगी, 

तब यह कंपनी 40 से भी ज्यादा अलग-अलग मॉडल की बाइक बना रहे थे, बाइक बनाने के साथ-साथ इन्होंने motors and radiator भी बनाना शुरू कर दिया था, केटीएम के बनाए हुए radiator यूरोपीयन मार्केट में बेची जाती थी। जो कि 80 के दशक में कंपनी के इनकम का एक बड़ा हिस्सा हुआ करता था।

इसके बाद कंपनी के स्कूटर की डिमांड धीरे-धीरे कम होने लगी इसीलिए 1988 में KTM ने स्कूटर बनाना ही बंद कर दिया। और अगले ही साल कंपनी के मालिक Erich Trunkenpolz कभी मृत्यु हो गया, अब धीरे-धीरे कंपनी की आर्थिक स्थिति बहुत ही खराब होने लगी, तब कंपनी कर्ज में पूरी तरह से डूब गई थी। 

और 1991 में कंपनी की मैनेजमेंट उन बैंक को दे दिया गया जिसका वह कर्जदार थे, और 1992 यह कंपनी को चार अलग-अलग हिस्सों में बांट दिया गया, इनमें से जो भी मोटरसाइकिल डिवीजन था “KTM sportmotorcycle GmbH” यह मोटरसाइकिल की कम को ही आगे बढ़ने लगी, 

और 1994 में कंपनी की सबसे पॉपुलर सीरीज Duke की प्रोडक्शन शुरू हुई, और उसके बाद कंपनी ने LC4 Supermoto और adventure बाइक भी बनाना शुरू कर दिया था, और 2012 में KTM sportmotorcycle GmbH के नाम बदलकर KTM AG कर दिया गया था।

और आगे चलकर Bajaj Auto KTM के 14.5% इससे को खरीद लिया, और 2013 आते-आते कंपनी की 47.97% Share Bajaj Auto नहीं खरीद लिया था, और 2015 आते-आते कंपनी की wealth 1 billion Euro 💶 तक पहुंच गया था,

और साथ में इस कंपनी में काम करने के लोगों की संख्या 2500 से भी ज्यादा हो गया था, और इसके बाद की कहानी तो आपको पता ही होगा अभी तो केटीएम के ज्यादातर बाइक हमारे इंडिया में ही  manufacture किया जाता है।

Conclusion: 

हमने इस आर्टिकल पर केटीएम बाइक किस कंपनी की है? केटीएम के बाइक के पूरी जानकारी दीया है,  अगर आपने हमारे इस आर्टिकल को पूरा पड़ा है तो आपको आपकी सभी सवालों का जवाब मिल गया होगा, 

अगर आप हमें इस आर्टिकल से जुड़ी कोई भी सवाल को पूछना चाहते हैं तो आप अपने सवाल को कमेंट करके हमें पूछ सकते हैं,  हम सभी के कमेंट का रिप्लाई जरूर देते हैं,  मेरी यह आर्टिकल पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद. 

1 thought on “केटीएम बाइक किस कंपनी की है? KTM के सफलता की कहानी.”

Leave a Comment